Breaking News
Home / Breaking News / बिश्नोई ने इस्तीफे के साथ ही हुड्डा को दिया बड़ा चैलेंज

बिश्नोई ने इस्तीफे के साथ ही हुड्डा को दिया बड़ा चैलेंज

हरियाणा के हिसार जिले के आदमपुर हलके से विधायक कुलदीप बिश्नोई ने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने अपना इस्तीफा हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता को सौंपा।

विधानसभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ने कहा कि इसकी सूचना चुनाव आयोग के पास भेजेंगे। इसके बाद सीट खाली होगी। आज शाम तक लीगली एग्जामिन करवा लेंगे।

वहीं कुलदीप बिश्नोई ने कहा कि मैं इस्तीफे की वजह कल ही बता पाऊंगा।कांग्रेस अब इंदिरा और राजीव गांधी की पार्टी नहीं रही। भाजपा देश हित में सोचती है। हरियाणा के सीएम मनोहर लाल की सोच से प्रभावित होकर कांग्रेस से इस्तीफा दे रहा हूं। इस्तीफे की भाषा विधानसभा की लीगल भाषा लिखी है। मैं दूसरी बार विधानसभा से इस्तीफा दे रहा हूं।

कल सीएम मनोहर लाल दिल्ली आशीर्वाद देने आ रहे हैं। पुराने साथियों में दूड़ाराम साथ बैठे हैं। पूर्व विधायकों की लिस्ट सीएम मनोहर लाल को दूंगा, वे जब चाहे उन्हें पार्टी में शामिल करवा सकते हैं।

मैं साधारण कार्यकर्ता के रुप में पार्टी जॉइन कर रहा हूं। आदमपुर से चुनाव कौन लड़ेगा, वह पार्टी करेगी। हालांकि मेरी इच्छा भव्य बिश्नोई को चुनाव लड़वाने की है, परंतु बाकी फैसला पार्टी करेगी। मैं और भव्य राजनीति में एक्टिव रहना चाहते हैं।

कुलदीप बिश्नोई ने कहा कि कांग्रेस अब चाटूकारों की पार्टी रह गई है। कांग्रेस के सारे फैसले गलत होते जा रहे हैं। कुलदीप ने हुड्‌डा के जवाब पर तंज कसते हुए कहा कि जिस शरीर में जान होती है, उसी का विरोध होता है, मुर्दा का विरोध कौन् करेगा।

मेरे ईडी के सारे केस खत्म हो चुके हैं। तीन साल पहले इंकम टैक्स का नोटिस आया था। उसका हिसाब दे चुका हूं। मैंने पूर्व सीएम हुड्‌डा का चेलेंज स्वीकार किया और इस्तीफा दिया।

अब भूपेंद्र हुड्‌डा को चैलेंज करता हूं कि वे आदमपुर से आकर चुनाव लड़ लें। कुलदीप ने कहा कि अगर पार्टी किरण चौधरी से बात करने के लिए कहेगी तो जरूर करूंगा।

इसके लिए वे सुबह 8 बजे आदमपुर स्थित अपने निवास से चंडीगढ़ के लिए निकल चुके हैं। उनके साथ पत्नी रेणुका बिश्नोई भी हैं।रवाना होने से पहले कुलदीप ने ट्वीट भी किया। उन्होंने लिखा कि मुसाफिर कल भी था, मुसाफिर आज भी हूं, कल अपनों की तलाश में था, आज अपनी तलाश में हूं। कुलदीप 4 अगस्त को भाजपा में शामिल होंगे। कुलदीप 6 साल बाद दूसरी बार कांग्रेस से किनारा कर रहे हैं और भाजपा में शामिल होंगे। इससे पहले कुलदीप ने वर्ष 2007 में कांग्रेस छोड़कर हजकां का गठन किया था।

कुलदीप बिश्नोई ने 6 साल बाद कांग्रेस से दूसरी बार किनारा किया है। राज्यसभा चुनाव 2022 में कुलदीप ने क्रॉस वोटिंग की थी तो अजय माकन हार गए थे। इसके चलते पार्टी ने उन्हें सभी पदों से और पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से हटा दिया था।

28 अप्रैल 2016 को कुलदीप ने अपनी हजकां का विलय गांधी परिवार के नेतृत्व में कांग्रेस में किया था। हजकां का गठन बिश्नोई के पिता और पूर्व मुख्यमंत्री भजन लाल ने वर्ष 2007 में कांग्रेस से अलग होने के बाद किया था। कांग्रेस ने वर्ष 2005 के विधानसभा चुनाव में तत्कालीन प्रदेशाध्यक्ष भजन लाल के नेतृत्व में 67 सीटें जीती थीं।

लेकिन उन्हें CM न बनाकर भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा को जिम्मेदारी सौंप दी थी। कांग्रेस हाईकमान ने उनके बड़े बेटे चंद्र मोहन को डिप्टी CM का ऑफर दिया। कुलदीप को केंद्र में मंत्री पद ऑफर किया। भजन लाल नाराज नहीं थे, लेकिन परिस्थितियां ऐसी बनीं कि भजनलाल के समर्थक विधायक उनका साथ छोड़कर कांग्रेस के बैनर तले इकट्‌ठे हो गए।

About Dev Sheokand

Assistant Editor

Check Also

मौत के साये में जिंदगी गुजार रहे भूना के लोग मगर सुनने वाला कोई नहीं !

हरियाणा के फतेहाबाद में भारी बारिश के बाद पानी में डूबे भूना में लोगों को …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Watch Our YouTube Channel