Breaking News
Home / Breaking News / नए लोक परीक्षा क़ानून के तहत पहला केस HPSC के डिप्टी सेक्रेटरी पर ही हुआ दर्ज, जानिए क्या है पूरा मामला !

नए लोक परीक्षा क़ानून के तहत पहला केस HPSC के डिप्टी सेक्रेटरी पर ही हुआ दर्ज, जानिए क्या है पूरा मामला !

चंडीगढ़

देव श्योकंद

भर्तियों में फर्जीवाड़ा रोकने के लिए प्रदेश सरकार ने काफी हंगामे व विरोध के बाद नया कानून बनाया था। विधानसभा में पारित होने के बाद प्रदेश में 10 सितंबर से हरियाणा लोक परीक्षा विधेयक लागू किया गया। नया कानून लागू होने के 67 दिन बाद एक्ट के तहत पहला केस दर्ज हुआ और केस में भर्ती बोर्ड का उपसचिव अनिल नागर आरोपी है।
अनिल नागर के अलावा झज्जर निवासी अश्वनी शर्मा व भिवानी निवासी नवीन को भी इस केस में आरोपी बनाया गया है। पुलिस कांस्टेबल की भर्ती में पेपर लीक होने के बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने भर्तियों में फर्जीवाड़ा रोकने के लिए नया कानून विधानसभा में पास करवाया गया था। विधानसभा से पारित होने के बाद हरियाणा लोक परीक्षा (अनुचित साधन निवारण) विधेयक 11 सितंबर से प्रभावी हुआ।

कानून के तहत प्रावधान


पेपर लीक में शामिल गिरोह के लोगों पर अपराध साबित होने पर सात से दस साल तक की कैद और न्यूनतम 10 लाख रुपये का जुर्माना भुगतना होगा।
जुर्माना नहीं दे पाने की स्थिति में उनकी चल-अचल संपत्ति को कुर्क कर इसकी भरपाई की जाएगी।


ड्यूटी पर तैनात स्टाफ या निरीक्षण दस्ते को डराने-धमकाने या लालच देने का आरोप साबित होने पर दो साल तक की सजा और पांच हजार रुपये तक का जुर्माना होगा।
भर्ती परीक्षा से जुड़ा कोई व्यक्ति पेपर लीक में शामिल होता है तो उसे सात साल तक कैद और एक से तीन लाख रुपये तक जुर्माना भुगतना पड़ेगा।
पेपर लीक में शामिल छात्र को दो साल की कैद और पांच हजार रुपये का जुर्माना भुगतना होगा।साथ ही उस पर दो साल के लिए किसी भी भर्ती परीक्षा में शामिल होने पर प्रतिबंध का प्रावधान है।

प्रदेश में डेंटल व एचसीएस भर्ती के नए फर्जीवाड़े में हिसार के उकलाना निवासी नरेंद्र की शिकायत पर रोहतक निवासी एचसीएस अनिल नागर,अश्ववनी शर्मा व नवीन के खिलाफ हरियाणा लोक परीक्षा अधिनियम, भ्रष्टाचार उन्नमूलन अधिनियम, 420, 466, 468, 471 व 120 बी की धाराओं में पंचकूला विजिलेंस ने केस दर्ज किया है। डेंटल भर्ती व एचसीएस भर्ती में शामिल अभ्यर्थियों को केस में शामिल किए जाने के कारण नए कानून के तहत वह दो साल तक किसी भर्ती परीक्षा में भाग नहीं ले सकेंगे।

About Dev Sheokand

Content Editor

Check Also

मुख्यमंत्री ने प्रशासनिक सचिवों के साथ की अहम बैठक , पढ़िए क्या रहे अहम फैसले !

चंड़ीगढ़ ब्रेकिंग मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने प्रशासनिक सचिवों के साथ की उच्च स्तरीय बैठक बैठक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Watch Our YouTube Channel