Breaking News
Home / पंजाब / पंजाब में राज्यपाल ने विधानसभा सेशन को लेकर लिया अब ये फैसला

पंजाब में राज्यपाल ने विधानसभा सेशन को लेकर लिया अब ये फैसला

पंजाब के गवर्नर बनवारी लाल पुरोहित ने 2 बार की तकरार के बाद आखिरकार पंजाब सरकार के विधानसभा सेशन को मंजूरी दे ही दी। गवर्नर हाउस की तरफ से इसके ऑर्डर जारी कर दिए गए हैं।

ऑर्डर में गवर्नर ने भारतीय संविधान के आर्टिकल (1) की धारा 174 का जिक्र करते हुए मंजूरी दी है। पंजाब सरकार ने गवर्नर से 27 सितंबर को बुलाने की मांग की थी।

पंजाब के गवर्नर बनवारी लाल पुरोहित पंजाब विधानसभा का 22 सितंबर को बुलाया गया स्पेशल सेशन रद्द कर चुके हैं। उस समय राज्यपाल और मुख्यमंत्री में तकरार हुई थी। इसके बाद उन्होंने CM भगवंत मान को संविधान का पाठ पढ़ाया।

उन्होंने उन्हें बताया कि गवर्नर और CM का काम क्या होता है? CM यह समझ सकें कि स्पेशल सेशन रद्द क्यों किया गया और संविधान के अनुसार सेशन बुलाने की सही प्रक्रिया क्या होती है। इसके बाद दूसरी बार मंजूरी मांगने पर प्रस्ताव स्वीकार कर लिया।

CM भगवंत मान गवर्नर के संविधान के पाठ पर कड़ी प्रतिक्रिया दे चुके हैं। मान कह चुके हैं कि विधानसभा के किसी भी सेशन से पहले गवर्नर या राष्ट्रपति की सहमति एक औपचारिकता है।

75 वर्ष में किसी भी राष्ट्रपति या गवर्नर ने सत्र बुलाने से पहले कभी विधायी कार्यों की सूची नहीं मांगी। विधायी कार्य बिजनेस एडवाइजरी कमेटी और स्पीकर द्वारा तय किया जाता है। अब बहुत हो गया।

पंजाब में आप सरकार और गवर्नर के बीच ऑपरेशन लोटस के आरोपों के बाद तकरार बढ़ी है। आप ने भाजपा पर उनके विधायकों को खरीदने का आरोप लगाया, जिसके बाद बहुमत साबित करने के लिए स्पेशल सेशन बुला लिया।

पहले इसे गवर्नर ने मंजूरी दे दी। विपक्षी विधायकों ने विरोध जताया तो लीगल ओपिनियन लेकर गवर्नर ने इसे रद्द कर दिया। इसके बाद बिजली और पराली के मुद्दे पर बहस की बात कह सरकार ने फिर सेशन बुला लिया, जिस पर फिर टकराव हुआ।

About Dev Sheokand

Assistant Editor

Check Also

पीएम मोदी के खिलाफ फिर मोर्चा खोलेंगे किसान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 नवंबर को हिमाचल दौरे पर हैं, लेकिन इससे पहले वह पंजाब …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Watch Our YouTube Channel