Breaking News
Home / Breaking News / क्या भाजपा का दामन थामने की तैयारी में हैं सचिन पायलट !

क्या भाजपा का दामन थामने की तैयारी में हैं सचिन पायलट !

राजस्थान की राजनीति में भाजपा नेताओं का सचिन पायलट से प्रेम जगजाहिर है। भाजपा नेता पूर्व डिप्टी सीएम पायलट की तारीफ करते नहीं थक रहे हैं। केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के बाद एक बार फिर नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने सचिन पायलट की तारीफ की है।

कटारिया ने सोमवार को दौसा जिले में मेंहदीपुर बालाजी के दर्शन से बाद मीडिया से बात की। कटारिया ने कहा कि सचिन पायलट ने मरी हुई पार्टी को जिंदा कर दिया। सीएम गहलोत उन्हें नाकारा कहते हैं। कटारिया ने कहा कि राज्य में कांग्रेस की सरकार ले दिन से ही इस सरकार में खींचतान साफ देखी जा रही है।

दोनों तरफ खेमेबंदी चल रही है, एक-दूसरे के लिए नकारा, निकम्मा और अंग्रेजी बोलने वाला जैसे शब्दों का प्रयोग किया जा रहा है। लेकिन, यह बात भी सच है कि मरी हुई पार्टी को उस व्यक्ति (सचिन पायलट) ने अपने परिश्रम से जिंदा किया। इसको कोई नकार नहीं कह सकता।

जो पार्टी 21 विधायकों पर चली गई थी उस पार्टी को सरकार की पार्टी बना दिया। इसमें उन्हीं का तो योगदान है और उसे ही सीएम गहलोत नाकारा कहते हैं। मुख्यमंत्री का नाम लिए बिना कटारिया ने कहा इनके मन में जो भड़ास है। वह निकल रही है। वह पार्टी को जोड़ने वाले नहीं तोड़ने वाले शब्द हैं।

उल्लेखनीय है कि केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत कई बार सचिन पायलट की तारीफ कर चुके हैं। चौमू में आयोजित पार्टी के एक सम्मेलन में शेखावत की तारीफ करते हुए कहा था कि सचिन पायलट जी से कमी रह गई वरना राजस्थान में भी मध्यप्रदेश जैसे हालात होते।

इससे पहले केंद्रीय मंत्री शेखावत ने सचिन पायलट को जमीन से जुड़ा हुआ नेता बताते हुए कहा था कि पायलट भाजपा में शामिल होते है तो उनका स्वागत है।

पायलट जमीन से जुड़े हुए नेता है। दरअसल, केंद्रीय मंत्री अपने धुर विरोधी सीएम गहलोत पर सचिन पायलट की आड़ लेकर निशाना साधने से नहीं चूकते हैं। 

राजस्थान की राजनीति में सीएम गहलोत और सचिन पायलट की अदवात जगजाहिर है। साल 2020 में पायलट की बगावत के बाद सुलह हो गई लेकिन, खटास बरकरार है। सीएम गहलोत बगावत के समय पायलट को नाकार कह चुके हैं। हालांकि, पायलट ने कहा कि वह सीएम गहलोत उनके पिता तुल्य है।

सम्मान करते हैं। उनकी बातों का बुरा नहीं मानते है। जानकारों का कहना है कि भाजपा नेता सचिन पायलट की तारीफ कर कांग्रेस की अंदरुनी खींचतान को बढ़ावा देना चाहते हैं।

राजस्थान में विधानसभा चुनाव 2023 के अंत तक होने वाले हैं। राजस्थान के भाजपा नेता चाहते हैं गहलोत और पायलट कैंप की खींचतान का सियासी फायदा चुनाव में मिले, इसलिए सचिन पायलट की तारीफ कर सीएम गहलोत को निशाने पर लेते रहे हैं। 

About The Masla Team

Check Also

क्या हरियाणा में आज पूरा हो जाएगा तीसरे मोर्चे का सपना !

देश के पूर्व उप प्रधानमंत्री चौधरी देवीलाल की आज 109वीं जयंती है। इस मौके पर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Watch Our YouTube Channel