Breaking News
Home / Breaking News / राम रहीम ने सज़ा कम देने के लिए इस वजह के आधार पर लगाई गुहार , पढ़िए पूरी खबर !

राम रहीम ने सज़ा कम देने के लिए इस वजह के आधार पर लगाई गुहार , पढ़िए पूरी खबर !

पंचकूला

देव श्योकंद

डेरा सच्चा सौदा के पूर्व प्रबंधक रंजीत सिंह की हत्या के मामले में मंगलवार को फैसला नहीं हो पाया। अब 18 अक्टूबर को सुनवाई होगी। उस दिन फैसला आने की उम्मीद है। मंगलवार को लगभग छह घंटे तक सीबीआइ की विशेष अदालत में सीबीआइ और बचाव पक्ष की ओर से दलीलें दी गईं। दोषी गुरमीत ने अपने स्वास्थ्य का हवाला देते हुए कम से कम सजा देने की गुहार लगाई।

गुरमीत ने आठ पेजों की दलील दी, जिसमें उसने कहा है कि मुङो ब्लड प्रेशर, पथरी और देखने में दिक्कत है। उसके वकील ने कहा कि डेरे की ओर सैकड़ों सामाजिक कार्य किए गए हैं। गुरमीत ने हिंदी में अपना बयान भेजा था, जिसका कोर्ट में अंग्रेजी में अनुवाद करवाकर उसे वापस सुनारिया जेल भेजा गया, जहां से उसके हस्ताक्षर कराए गए।

चेहरे पर झलक रही थी निराशा

गुरमीत रोहतक की सुनारिया जेल से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए सीबीआइ अदालत में पेश हुआ। सुनवाई के दौरान वह जेल में कुर्सी पर बैठा था और उसके चेहरे पर निराशा झलक रही थी। गुरमीत को सजा सुनाए जाने की संभावना को देखते हुए रोहतक जिला और जेल प्रशासन मंगलवार को अलर्ट रहा। जेल की सुरक्षा कड़ी करने के साथ आसपास से गुजरने वाले वाहनों की जांच की गई।

सीबीआइ ने की फांसी या उम्रकैद देने की अपील

सुनवाई के दौरान कोर्ट ने दोषियों के बयान सजा के लिए रिकार्ड कराए। सजा सुनाने से पहले दोनों पक्षों की ओर से बहस की गई। सीबीआइ की ओर से पक्ष रखा जा चुका है। सीबीआइ के वकील एचपीएस वर्मा ने सुप्रीम कोर्ट के कुछ फैसले रखते हुए दोषियों को ज्यादा से ज्यादा सजा सुनाने की अपील की है। एचपीएस वर्मा ने कहा कि धारा 302 के तहत जितनी अधिक सजा होती है, वही गुरमीत को होनी चाहिए। इस धारा में कम से कम उम्रकैद और अधिकतम फांसी का प्रावधान है। दोषी अवतार सिंह की ओर से एडवोकेट पीके संधीर ने अपनी दलीलें पूरी कर दी हैं। बाकी दोषियों ने दलीलें रखने के लिए समय मांगा है। कोर्ट ने मामले की अगली सुनवाई 18 अक्टूबर तय की है।

About Dev Sheokand

Assignment Editor

Check Also

भाजपा ने अपने सांसदों के लिए जारी किया ये जरूरी निर्देश, पढ़िए पूरा मामला इस खबर मे !

नई दिल्ली देव श्योकंद भाजपा ने अपने सभी सांसदों को 29 नवंबर को सदन में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Watch Our YouTube Channel