Breaking News
Home / Breaking News / पीएम मोदी को यूपी के माध्यम से ऐसे चुनौती देंगे नीतीश कुमार

पीएम मोदी को यूपी के माध्यम से ऐसे चुनौती देंगे नीतीश कुमार

जेडीयू नेता और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार खुद 2024 का लोकसभा चुनाव लड़ेंगे या नहीं लड़ेंगे, लड़ेंगे तो यूपी में फूलपुर या मिर्जापुर से लड़ेंगे या बिहार में नालंदा से, ये सब हवा में है या फिर नीतीश के मन में।

ठोस काम जो हो रहा है वो ये कि नीतीश बिहार से लेकर यूपी तक कुर्मी वोट को जगा रहे हैं, उनकी पार्टी जेडीयू के नेता सरदार पटेल की याद दिला रहे हैं।

अनुमान के मुताबिक बिहार में 7.5 परसेंट कुर्मी-धानुक वोट जबकि यूपी में 11 परसेंट कुर्मी वोट है। बिहार में नीतीश को कोइरी वोट भी मिलता है जो करीब 5 परसेंट है जिसके सबसे बड़े नेता उपेंद्र कुशवाहा फिलहाल जेडीयू संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष भी हैं।

यूपी में कुर्मी समेत अन्य पिछड़ों के वोट की राजनीति करने वाली अपना दल कमेरावादी की अध्यक्ष और सोनेलाल पटेल की पत्नी कृष्णा पटेल दो दिन पहले दिल्ली में नीतीश से मिलीं और कहा कि उनके पति का नीतीश से बहुत गहरा संबंध रहा है। जेडीयू ने भी कहा कि नीतीश और सोनेलाल के रिश्ते बहुत प्रगाढ़ रहे हैं।

दोनों पार्टियों ने 2007 का यूपी विधानसभा चुनाव मिलकर लड़ा था। तो क्या सोनेलाल पटेल की पत्नी कृष्णा पटेल को साथ लेकर नीतीश बिहार से यूपी तक कुर्मी कॉरिडोर बनाने की कोशिश कर रहे हैं और अगर कर रहे हैं तो क्या बिना अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी (सपा) के समर्थन से सिर्फ कृष्णा पटेल या पल्लवी पटेल के भरोसे ऐसा कर पाना संभव होगा।

सोनेलाल पटेल ने 1995 में बसपा से निकलकर अपना दल बनाया। उनके निधन के बाद पत्नी कृष्णा पटेल अध्यक्ष और बेटी अनुप्रिया पटेल महासचिव बनीं। बाद में पार्टी चलाने को लेकर मां-बेटी में ही विवाद हो गया और अपना दल से दो दल बन गए। बेटी अनुप्रिया पटेल ने अपना दल सोनेलाल बना लिया तो मां कृष्णा पटेल ने अपना दल कमेरावादी।

अनुप्रिया पटेल बीजेपी के साथ एनडीए में हैं और मिर्जापुर लोकसभा सीट से जीतकर नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री भी हैं। उनके पति आशीष पटेल यूपी में योगी आदित्यनाथ सरकार में मंत्री हैं।

मां कृष्णा पटेल अखिलेश यादव की सपा के साथ हैं और उनकी दूसरी पेटी पल्लवी पटेल ने इस बार योगी के डिप्टी सीएम और यूपी में बीजेपी के सबसे बड़े ओबीसी चेहरे केशव प्रसाद मौर्या को विधानसभा चुनाव में हराया है। 

यूपी की राजनीति में इस समय नीतीश कुमार की जाति यानी कुर्मी का वोट मोटा-मोटी बीजेपी और एनडीए के पक्ष में जा रहा है जिसकी एक वजह अनुप्रिया पटेल से बीजेपी का गठबंधन भी है। नरेंद्र मोदी का खुद का प्रभाव जो है सो अलग।

 अनुप्रिया का प्रभाव मिर्जापुर और पूर्वांचल के जिलों में है। यूपी में फूलपुर, मिर्जापुर, इलाहाबाद, वाराणसी समेत लोकसभा की करीब 25 सीटों पर कुर्मी वोट दम भर है। कुछ सीटों पर कुर्मी के वोट निर्णायक भी साबित होते हैं। कुर्मी वोट वाले इलाकों में बरेली, पीलीभीत, हरदोई, जालौन, उरई, बांदा, बहराइच, फतेहपुर, चंदौली, प्रतापगढ़, रायबरेली, सुल्तानपुर, अमेठी, श्रावस्ती और गोंडा शामिल हैं।

About The Masla Team

Check Also

सेना में नौकरी की चाह रखने वाले युवाओं के लिए खुशखबरी आई सामने ,पढ़िए

हरियाणा के रोहतक स्थित राजीव गांधी खेल परिसर में सोमवार यानी आज से अग्निवीर भर्ती …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Watch Our YouTube Channel