Breaking News
Home / Photo Feature / विश्व मे शांति स्थापित करना है हजरत मोहम्मद का मिशन, पढ़िए संपादकीय मे

विश्व मे शांति स्थापित करना है हजरत मोहम्मद का मिशन, पढ़िए संपादकीय मे

इस्लाम का गहराई से अध्ययन करने के बाद उसके कई आकर्षक पहलू सामने आए हैं जिनमें एक ‘शान्ति के सिद्धान्त’ पर उसका झुकाव है जो हज़रत मोहम्मद का मिशन भी था। हज़रत मोहम्मद साहब ने स्वयं ईसाइयों और यहूदियों से मिलकर विचार विमर्श किया था । इसके अलावा वे अपने इस शांति मिशन के अंतरगत रोम व फ़ारस के इलाकों में घूमें और उन्होंने दमिश्क़ और यमन जैसे उस समय के बहु सांस्कृतिक नगरों का दौरा किया जहाँ प् जहाँ विभिन्न धर्मों व संस्कृतियों को मानने वाले रहते थे । इस्लाम की अहमियत दो शक्तिशाली साम्राज्यों रोमन तथा फारसियों के सर्वनाश को दर्शाती है जिसे दुनिया ने पहली बार देखा । जबकि अन्य अरबी क़बीले जो राजनैतिक तौर पर सक्रिय थे इनमें से कईयों ने इन दो ताक़तों के वसालस (जागीरदार) के तौर पर कार्य किया ।अरब दो दबी कुचली और इसाइयों व यहूदियों के दमन का शिकार हुई जाति ने हज़रत मोहम्मद के रूप में अपने रक्षक को देखा । क़ुरान समान रूप से विभिन्न धर्मों के लोगों को शांति व सौहार्द्र स्थापित करने की तसल्ली देती है ।
ईमान वाले मुसलमान यहूदियों, सर्बियन, इसाइयों, पारसियों तथा बुतपरस्तो के लिए आखरत के दिन अल्लाह ख़ुद फ़ैसला लेगा। ख़ुदा की निगाह हर तरफ़ है।
इस्लाम में धर्म शास्त्र के तौर पर सब कुछ समाहित है और यह इकलौता धर्म है जिसमें सच्चाई है तथा जहाँ तक मौत का प्रश्न है इसका चरित्र बहुलवादी है क्योंकि इस्लाम में प्रत्येक मनुष्य को समान रूप से खुदा को प्राप्त करने हेतु हक़दार होने की बात कही गई है ।
हजरत मोहम्मद का जीवन ऐसे अनेक घटनाओं से भरा पड़ा है जहाँ वे शांति और सौहार्द के लिए अडिग खड़े रहे ।उनके द्वारा की गई मदीना की संधि इसका एक बेहतरीन उदाहरण है।

About Dev Sheokand

Assistant Editor

Check Also

अफ़ग़ानिस्तान मे तालिबानियों के कृत्य है पूर्ण रूप से गैर इस्लामी!

अमरीकी फौजों के अफगानिस्तान से लौटने के बाद तालिबानी लड़ाकों ने इस देश पर पूरी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Watch Our YouTube Channel